वित्तीय जागरूकता पर एक झलक (8 April – 14 April 2018)

प्रिय पाठक,

यहां हम अपनी बैंकिंग और वित्त जागरूकता श्रृंखला “वित्तीय जागरूकता पर एक झलक” के अगले हिस्से को साझा कर रहे हैं। भारत और दुनिया में बैंकिंग और वित्त क्षेत्र में इस सप्ताह हुई सभी महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए इसे अवश्य पढ़ें । यह आपको आगामी महत्वपूर्ण परीक्षाओं में बेहद मददगार होगा।

वित्तीय जागरूकता पर एक झलक

1.भानु प्रताप शर्मा बैंक बोर्ड ब्यूरो के नए अध्यक्ष बने

  • पूर्व ब्यूरोक्रेट भानु प्रताप शर्मा बैंक बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी) के नए अध्यक्ष बन गये हैं।
  • नियुक्ति से पहले, भानु प्रताप शर्मा रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) में भर्ती और मूल्यांकन केंद्र के अध्यक्ष थे।
  • इन्होने विनोद राय की जगह ली है, जिनकी दो साल की अवधि मार्च 2018 में पूरी हो चुकी थी।
  • केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने बैंक बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी) का पुनर्गठन किया है और एक नए अध्यक्ष को नियुक्त किया है, जिसका दो साल का कार्यकाल होगा, जैसा कि उसके पूर्ववर्ती के अध्यक्ष का था।

पुन: गठित BBB के अन्य सदस्य हैं –

  • वेदिका भंडारकर्म (निवेश बैंकर)
  • प्रदीप कुमार (एसबीआई के पूर्व प्रबंध निदेशक) और
  • प्रदीप पी. शाह (मूल्यांकन एजेंसी क्रिसिल के संस्थापक प्रबंध निदेशक

 बीबीबी के बारे में:

  • बैंक बोर्ड ब्यूरो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) के लिए प्रख्यात पेशेवरों और अधिकारियों का एक स्वायत्त निकाय है।
  • केंद्र सरकार ने अगस्त 2015 में सात सूत्री इंद्रधनुष मिशन के हिस्से के रूप में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के पुनर्निर्माण के लिए बैंक बोर्ड ब्यूरो की घोषणा की और यह अप्रैल 2016 में काम करना शुरू कर दिया।
  • पी.जे. नायक समिति की सिफारिश पर बैंक बोर्ड ब्यूरो की स्थापना की गई है।

2. रिजर्व बैंक ने उदारीकृत प्रेषण योजना के लिए रिपोर्टिंग मानदंड को कठोर किया

  • रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने उदारीकृत प्रेषण योजना (एलआरएस) के लिए रिपोर्टिंग मानदंडों को कड़ा कर दिया है जिसके तहत व्यक्तिगत रूप से एक वर्ष में विदेशों में 2,50,000 अमेरिकी डॉलर का हस्तांतरण किया जा सकता है।
  • मानदंडों को कसने का उद्देश्य निगरानी में सुधार करना और एलआरएस की सीमाओं का अनुपालन सुनिश्चित करना है।
  • इस योजना के तहत वर्तमान लेनदेन में बैंक द्वारा अनुमति दी जाती है जो प्रेषक द्वारा घोषित घोषणा पर आधारित है।
  • इन मानदंडों के पीछे मुख्य उद्देश्य सूचना के विश्वसनीय स्रोत की अनुपस्थिति में स्वतंत्र सत्यापन के बिना इस घोषणा को प्राप्त करने और निगरानी करने के लिए प्रतिबंधित है।

एलआरएस योजना के बारे में –

  • भारतीय रिजर्व बैंक ने फरवरी 2004 में उदारीकृत प्रेषण योजना (एलआरएस) शुरू की।
  • एलआरएस योजना के तहत नियम विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा), 1999 के तहत प्रदान किए जाते हैं।
  • एलआरएस योजना के तहत नाबालिगों सहित सभी निवासी व्यक्तियों को वर्तमान और पूंजीगत खाते के प्रयोजनों या दोनों के संयोजन के लिए अमेरिकी डॉलर के संदर्भ में कुछ राशि तक स्वतंत्र रूप से छूट देने की अनुमति है।
  • वर्तमान में, सभी निवासी व्यक्तियों के लिए, अल्पसंख्यकों के लिए एलआरएस सीमा, प्रति वित्तीय वर्ष 2,50,000 यूएस डॉलर (1.5 करोड़ रुपये) है।

एलआरएस योजना के अंतर्गत सुविधा –

  • एलआरएस के तहत, व्यक्ति विदेशी शिक्षा, यात्रा, चिकित्सा उपचार, विदेश में रहने वाले रिश्तेदारों के लिए रखरखाव, उपहार देने और दान के लिए प्रेषण कर सकते हैं।
  • प्रेषित धन भी शेयरों और संपत्ति की खरीद के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। व्यक्ति इसके तहत लेनदेन करने के लिए विदेशी बैंकों के साथ विदेशी मुद्रा खातों को खोल, रखरखाव और पकड़ भी सकते हैं।

3. आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक2018 में भारत 130वें स्थान पर

  • आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक 2018 में भारत का स्थान 186 अर्थव्यवस्थाओं में से 130वें स्थान पर रहा।
  • यह सूचकांक दुनिया के देशों में आर्थिक स्वतंत्रता की स्थिति को मापता है।
  • भारत ने 5 अंक के साथ पिछले साल (2017) में 143 वें रैंक से 52 अंकों के स्कोर के साथ 13 स्थानों की छलांग लगाई।
  • चीन 57.4 अंकों के साथ 111 वां स्थान पर है।
  • सूचकांक शीर्ष अमेरिकी आधारित थिंक टैंक, द हेरिटेज फाउंडेशन द्वारा जारी किया गया है।
  • यह 0 (न्यूनतम मुक्त) से लेकर 100 (सबसे निःशुल्क) तक के स्कोर के आधार पर देशों में रैंक करता है।
  • सूचकांक में शीर्ष 3 देश हैं: हांगकांग, सिंगापुर और न्यूजीलैंड।
  • भारत के पड़ोसी देशों की रैंकिंग – भूटान (87), श्रीलंका (111), बांग्लादेश (128), पाकिस्तान (131) और नेपाल (133) हैं।
  • सूचकांक में ब्रिक्स देशों का स्थान: दक्षिण अफ्रीका (77), रूस (107), चीन (111), भारत (130) और ब्राजील (153) हैं।

4. एडीबी ने 2018-19 में भारत की सकल घरेलू उत्पाद में 7.3% की बढ़ोतरी का अनुमान लगाया

  • एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने अपने एशियाई विकास आउटलुक में 2018-19 के दौरान भारत की आर्थिक विकास दर 7.3% पर बढ़ने का अनुमान लगाया है
  • इसके अलावा, एडीबी का अनुमान है कि 2019-20 वित्तीय वर्ष में भारत की आर्थिक विकास दर 7.6% पर पहुंच जाएगी।
  • एडीबी का विकास प्रक्षेपण रेटिंग एजेंसी फिच की तुलना में है, लेकिन यह भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के 7.4% के पूर्वानुमान के मुकाबले कम है।

5. आईसीआईसीआई बैंक, स्विफ्ट जीपीआई सेवा पर लाइव होने वाला पहला भारतीय बैंक बन गया

  • आईसीआईसीआई बैंक स्विफ्ट (सोसायटी फॉर वर्ल्ड इंटरबैंक फाइनेंशियल टेलीकम्युनिकेशन सिस्टम) ग्लोबल पेमेंट इनोवेशन (जीपीआई), एक बेहतर क्रॉस-बॉर्डर भुगतान सेवा पर लाइव होने वाला पहला भारतीय बैंक बन गया है।

जीपीआई के बारे में

  • स्विफ्ट जीपीआई मई 2017 में शुरू किया गया था।
  • स्विफ्ट जीपीआई का उद्देश्य भुगतान गतिविधियों पर पूरी सतर्कता रखने के लिए बैंकों को हर समय अपने वैश्विक लेनदेन को ट्रैक करने में मदद करना है।
  • यह SWIFT नेटवर्क पर 10% पार सीमा के भुगतान यातायात के लिए है और हर दिन तेजी से और सुरक्षित रूप से पूरे विश्व में सौ अरब डॉलर को स्थानांतरित करने में सक्षम है।
  • यह एक नेटवर्क पर भेजे गए सभी भुगतान निर्देशों को कवर करता है, जिससे GPI बैंक हर समय अपने सभी SWIFT भुगतान निर्देशों को ट्रैक कर सकें, और उन्हें अपने सभी भुगतान गतिविधि पर पूर्ण दृश्यता प्रदान कर सकें।

स्विफ्ट होता क्‍या है?

  • स्‍विफ्ट की फुल फॉर्म सोसायटी फोर वर्ल्डवाइड इंटरबैंक फाइनेंशियल टेलीकम्युनिकेशन है.
  • ये बैंकों के बीच एक तरह का नेटवर्क है जो मैसेज भेजने और रिसीव करने के काम आता है.
  • स्विफ्ट ट्रांसफर SWIFT अंतरराष्ट्रीय भुगतान नेटवर्क के माध्यम से भेजे जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय धन हस्तांतरण का एक प्रकार है।
  • दरअसल इ‍सका प्रयोग विश्व के कई बैंक और फाइनेंशि‍यल सर्विस देने वाले और संस्थान करते हैं और इनके जरिए पेमेंट बहुत आसानी से और तेज गति से हो जाती है.
  • हर बैंक के लिए एक खास स्विफ्ट कोड मि‍लता है जो इसकी पहचान के काम आता है.
  • SWIFT नेटवर्क वास्तव में धन हस्तांतरित नहीं करता है, बल्कि इसके बजाय, यह SWIFT कोड का उपयोग करके संस्थान के खातों के बीच भुगतान आदेश भेजता है।
  • एक स्विफ्ट कोड एक अंतरराष्ट्रीय बैंक कोड है जो पूरे विश्व में विशेष बैंकों की पहचान करता है।
  • यह बैंक आइडेंटिफ़ायर कोड (बीआईसी) के रूप में भी जाना जाता है विदेशी बैंकों को बैंक भेजने के लिए बैंक SWIFT कोड का उपयोग करता है। SWIFT कोड में 8 या 11 अक्षर होते हैं।

6. आरबीआई जीवीए मॉडल से जीडीपी मॉडल पर वापस आ गया है ताकि अर्थव्यवस्था को माप सकें

  • देश में आर्थिक गतिविधियों का अनुमान लगाने के लिए, आरबीआई सकल वैल्यू वर्धित (जीवीए) पद्धति से सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) मॉडल पर वापस आ गया है।
  • आरबीआई के डिप्टी गवर्नर, वायरल आचार्य के अनुसार; रिजर्व बैंक ने जीडीपी मॉडल पर वापस आने का मुख्य कारण यह है की वह अंतरराष्ट्रीय मानकों और वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं का पालन कर सके।
  • दुनिया में सबसे अधिक अर्थव्यवस्थाओं की आर्थिक गतिविधियों का अनुमान जीडीपी मॉडल के संदर्भ में किया जाता है।

इन दो मॉडल के बीच का अंतर है –

  • जीडीपी मॉडल उपभोक्ताओं की ओर से या या परिप्रेक्ष्य की मांग से अर्थव्यवस्था की एक चित्र देता है।
  • जीवीए मॉडल उत्पादक पक्ष या आपूर्ति पक्ष से आर्थिक गतिविधि की स्थिति का एक चित्र देता है।

नोट:

  • सरकार ने 2015 से जीवीए पद्धति का उपयोग करके विकास अनुमानों का विश्लेषण करना शुरू कर दिया था और जनवरी से आधार वर्ष 2018 तक भी बदल दिया था।

7. ड्यूश बैंक ने क्रिश्‍चियन स्‍विंग को नया सी.ई.ओ नामित किया

  • ड्यूश बैंक ए.जी ने तत्काल प्रभाव से बैंक के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सी.ई.ओ) के रूप में क्रिश्‍चियन स्‍विंग को नामित किया है।
  • उन्होंने जॉन क्रॉयन की जगह ली।

नोट:

  • ड्यूश बैंक की स्‍थापना वर्ष 1870 में बर्लिन (जर्मनी) में विदेशी व्यापार के लिए एक प्रमुख बैंक के रूप में की गई थी।
  • इसका मुख्यालय फ्रैंकफर्ट में ड्यूश बैंक ट्विन टावर्स में है।

8. एस.बी.आई ने 225 मिलियन पाउंड की पूंजी के साथ अपनी यू.के की सहायक कंपनी की शुरुआत की

  • भारतीय स्‍टेट बैंक (एस.बी.आई) ने अपनी मूल इकाई से 225 मिलियन पाउंड की प्रारंभिक पूंजी की प्रतिबद्धता के साथ एस.बी.आई (यू.के) लिमिटेड (अपनी ब्रिटेन की सहायक कंपनी) शुरू करने की घोषणा की है।
  • अब, भारतीय स्‍टेट बैंक (एस.बी.आई) अपने खुदरा क्षेत्र को अपने थोक व्यापार से कवर करने वाला यू.के का पहला विदेशी बैंक बन गया है।
  • यू.के की प्रूडेंशियल रेगुलेशन अथॉरिटी (पी.आर.ए) विदेशी बाजार में अनिश्‍चितताओं से यू.के के जमाकर्ताओं को बचाने के लिए विदेशी बैंकों से यू.के में सहायक कंपनियों की स्थापना करना चाहती है।

नोट:

  • एस.बी.आई लन्दन में सात और मैनचेस्टर, बर्मिंघम, वॉल्वरहैम्पटन, लिसेस्टर और कोवेन्ट्री प्रत्‍येक में पांच शाखाएं संचालित करती है।

9. एस.बी.आई नेपाल की जलविद्युत परियोजना में 80 बिलियन रुपये का निवेश करेगा

  • भारतीय स्टेट बैंक (एस.बी.आई) नेपाल कीअरुण तृतीय जल विद्युत परियोजना में कुल 80 बिलियन रुपये का निवेश करेगा।
  • इसकी विद्युत उत्‍पादन क्षमता 900 मेगावाट (एम.डब्‍ल्‍यू) है।
  • परियोजना के पूरा होने के बाद, नेपाल को एक वर्ष में उत्पादित कुल बिजली का9% भाग मिल जाएगा।
  • इस मेगा परियोजना को सितंबर 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  • एस.जे.वी.एन (मेगा जल विद्युत परियोजना की निर्माता) ने निवेश को ऋण के रूप में प्राप्‍त करने के लिए एस.बी.आई के साथ एक अनौपचारिक समझौता किया है और जल्‍द ही इस पर औपचारिक समझौता किया जाएगा।
  • इससे पहले, पंजाब नेशनल बैंक, एवरेस्ट बैंक (पी.एन.बी का संयुक्‍त उद्यम बैंक) के माध्यम से 268 किलोमीटर लंबी 400 के.वी ट्रांसमिशन लाइन के निर्माण के लिए ऋण देगा।

10. सरकार ने तेजी से ट्रैकिंग यूएवी प्रौद्योगिकी के लिए जयंत सिन्हा पैनल का गठन किया

  • केंद्र सरकार ने मानव रहित विमान (यू.ए.वी) प्रौद्योगिकी के शीघ्र कार्यान्‍वयन पर नज़र रखने के लिए नागर विमानन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा की अध्यक्षता में एक टास्क फोर्स का गठन किया है।
  • इसमें सरकार, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम, उद्योग और क्षेत्रीय विशेषज्ञों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।
  • टास्‍क फोर्स गठन के 6 महीने के अंदर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।
  • टास्क फोर्स मेक इन इंडिया के लिए विशिष्‍ट क्षेत्रों विनियामक ढांचों और प्राथमिकता में अनुसंधान एवं विकास, अधिग्रहण और व्यावसायीकरण, अनुप्रयोग और अभिग्रहण पर ध्यान केंद्रित करेगी।

नोट:

  • एक मानव रहित विमान (यू.ए.वी), विमान का एक प्रकार है जो बिना किसी मानव पायलट के चलता है।
  • रिमोट से चलने वाले हवाई जहाज और हेलीकाप्टरों को भी यू.ए.वी की श्रेणी में वर्गीकृत किया जा सकता है जब उनमें विशिष्‍ट प्रकार के प्रदर्शन और रिमोट-नियंत्रण की क्षमताएं होती हैं।

11. बान की मून बाओ फोरम एशिया के नए अध्यक्ष बने

  • संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव बान की-मून को सोमवार को बाओ फोरम फॉर एशिया का अध्यक्ष चुना गया।
  • He replaced Yasuo Fukuda (former Japanese Prime Minister).
  • पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के पूर्व गर्वनर झाउ शिओचुअन को उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।
  • बाओ फोरम एशिया सम्मेलनची न के के हैनान प्रांत में आयोजित किया गया था।
  • सम्मेलन का विषय ‘ग्रेटर समृद्धि की दुनिया के लिए एक खुला और अभिनव एशिया’ है।

नोट:

  • बीएफए वर्ष 2001 में स्थापित किया गया था।
  • यह एक गैर-सरकारी और गैर-लाभकारी अंतरराष्ट्रीय संगठन है।
  • बीएफए सम्मेलन हर साल आयोजित किया जाता है।
  • बीएफए का मुख्य उद्देश्य क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण को बढ़ावा देना और एशियाई देशों को अपने विकास लक्ष्यों के करीब लाने का है।
  • फेडरेशन ऑफ चेंबर ऑफ कॉमर्स ऑफ इंडिया (एफआईसीसीआई) बीएफए के संस्थापक सदस्यों में से एक है और प्रसिद्ध उद्योगपति रतन टाटा बोर्ड के सदस्य हैं।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

A WordPress.com Website.

Up ↑